दिवाली 2017 पूजा विधि और महूरत

भारत में दिवाली का त्यौहार धूम धाम से मनाया जाता हैं। दिवाली में ऐसे तो सभी देवताओं की पूजा की जाती है पर धन की देवता माँ लक्ष्मी का पूजन विशेष होता हैं। घर में धन की वर्षा हो और घर में सभी सुखी एवं स्वस्थ रहने के लिए दिवाली में पूजन सही तरह से होना बेहद जरुरी होता हैं। 

आज इस लेख में हम आपको दिवाली की पूजा कैसे करनी चाहिए और इसके लिए आपको किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है इसकी जानकारी देने जा रहे हैं। ऐसे तो कई लोग बिना जाने ही घर पर छोटी पूजा कर लेते हैं पर दिवाली को माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद पाने के लिए सही विधि से पूजन करना जरुरी होता हैं। 

दिवाली पर पूजन कैसे करे इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :  

diwali-pooja-vidhi-in-hindi-mahurat

दिवाली पर पूजा कैसे करे ?

Diwali Poojan vidhi in Hindi

दिवाली पूजा की सामग्री 

  1. फूल  
  2. केसर 
  3. रोली 
  4. अक्षत 
  5. पान के 5 पत्ते 
  6. सुपारी 
  7. फल 
  8. दूध 
  9. खील-बताशे 
  10. नारियल 
  11. सिंदूर 
  12. सुखा मेवा 
  13. मिठाई 
  14. दही 
  15. गंगाजल 
  16. काली धूप 
  17. अगरबत्ती 
  18. मिट्टी के दीए  
  19. तांबे का कलश और तांबे के अन्य पात्र 
  20. सिक्के तथा नोट इत्यादि 

दिवाली पूजन विधि 

  • दिवाली पर पूजन की तैयारी के लिए सबसे पहले एक थाली में या भूमि को शुद्ध करके नवग्रह बनाएं या नवग्रह का यंत्र स्थापित करें। 
  • इसके साथ ही एक तांबे का कलश बनाएं जिसमें गंगाजल, दूध, शहद, सुपारी, सिक्के और लौंग वगैरा डालकर उसे लाल कपड़े से ढककर एक कच्चे नारियल और कलावे से बांधे। 
  • जहां पर नवग्रह बनाया है वहां पर रुपया सोना या चांदी का सिक्का माँ लक्ष्मी, गणेश, सरस्वती जी अथवा ब्रह्मा-विष्णु-महेश आदि देवी देवताओं की मूर्ति अथवा चित्र सजाएं। 
  • कोई धातु की मूर्ति हो तो उसे साक्षात रुप मानकर दूध, दही और गंगा जल से स्नान कराकर अक्षत चंदन का श्रंगार करके फल-फूल आदि से सजाए। 
  • उसके दाहिने ओर एक पंचमुखी दीपक अवश्य जलाएं जिसमें घी या तिल तेल का प्रयोग किया जाता है।
  • घर के किसी वरिष्ठ सदस्य को महालक्ष्मी पूजन के समय तक व्रत रखना चाहिए। लक्ष्मी पूजन करता स्नान आदि नित्य कर्म से निवृत होकर पवित्र आसन पर बैठकर आसन प्राणायाम करके स्वस्ति वाचन करें। 
  • गणेश जी का स्मरण कर अपने दाहिने हाथ में गंध, अक्षत, पुष्प, दुर्वा द्रव्य और जल अदि लेकर दीपावली महोत्सव के निमित्त गणेश, अंबिका, महालक्ष्मी, महासरस्वती, महाकाली, कुबेर आदि देवी देवताओं को पूजनार्थ संकल्प करें। 
  • संपूर्ण संकल्प के बाद सबसे पहले गणेश और अंबिका का पूजन करें फिर कलश स्थापन षोड़शामृत का पूजन और नवग्रह पूजन करके महालक्ष्मी आदि देवी देवताओं का पूजन करें। 
  • गणेश पूजन, दीप पूजन और गौ द्रव्य पूजन इस पर्व की विशेषता है। इन से तात्पर्य यह है कि धर्म की अधिष्ठात्री देवी लक्ष्मी अर्थात अर्थ की समृद्धि, ज्ञान, प्रकाश और पारमार्थिक कार्यों से विरोध नहीं होना चाहिए। ना अर्थ का उपयोग इसके लिए हो और अर्थोपार्जन भी इन्हीं से प्रेरित हो। 
  • लक्ष्मी पूजन प्रारंभ करने से पूर्व पूजा वेदी पर लक्ष्मी गणेश के चिर या मूर्ति, वही खाते, कलम, दवात आधी सजा कर रख देना चाहिए तथा पूजा की आवश्यक सामग्री तैयार कर लेनी चाहिए। 

दीपावली पूजन की मान्यताएं

  • मान्यता है कि लक्ष्मी पूजा के दिन यदि चांदी के लक्ष्मी गणेश की मूर्ति की स्थापना और उनकी पूजा की जाए तो ऐसा करने से धन की वर्षा और घर में समृद्धि का बढ़ावा मिलने लगता है। 
  • श्रीयंत्र को धन और समृद्धि लाभ, ऋण से मुक्ति आदि का यंत्र बताया गया है। 
  • कहते हैं लक्ष्मी पूजा के दौरान पूजन स्थान पर इस यंत्र की स्थापना करनी चाहिए इसके बाद के फायदे आप को साफ नजर आने लगेंगे। 
  • मूर्ति के अलावा मां लक्ष्मी की चरण पादुकाएं का भी काफी महत्व है। चांदी से बनी यह पादुकाएं पूजा स्थल रखें और उस दिशा में रखें जहां अपने घर में आप कॅश और ज्वेलरी आदि रखते हैं। 
  • मान्यता है कि पादुकाओं की वजह से लक्ष्मी जी की कृपा आपके घर पर हमेशा बनी रहती है। इसकी स्थापना शुभ मुहूर्त देखकर करनी चाहिए। 
  • कौडियों का संबंध में मां लक्ष्मी की प्रसन्नता से जुड़ा है क्योंकि कोड़ी समुद्र से मिलती है और महालक्ष्मी भी समुद्र से निकली है इसलिए कौड़ियां धन समृद्धि की ओर आकर्षित करती है। इन्हें पूजन स्थल पर रखना शुभ माना जाता है। 
  • दक्षिणावर्ती शंख को काफी चमत्कारिक माना जाता है। खुद जानकार लोगों का कहना है कि इस शंख को यदि पूजा स्थल या फिर अपने कैश और ज्वैलरी रखने की जगह रखे तो बहुत जल्द आप पर धन समृद्धि की बरसात होने शुरू हो जाएगी। 
इस तरह इस दिवाली विधिवत दिवाली पूजन कर आप दिवाली के पवन पर्व पर भगवान की आराधना कर सकते है और प्रभु का आशीर्वाद पा सकते हैं। 
अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे !

0 comments:

Post a Comment

Share अवश्य करे !

जरूर पढ़े !