बच्चों की गुस्से और ज़िद की आदत सुधारने के तरीके

आजकल ज्यादातर भारतीय परिवार में माँ-बाप और बच्चे बस इतने ही सदस्य होते हैं। पहले भारत में एकत्र कुटुंब हुआ करते थे जिस कारण घर में बच्चों पर हमेशा नजर भी रहती थी और बच्चों को अच्छे संस्कार भी मिला करते थे। 

अब परिवार छोटे हो गए है और उसमे भी बच्चे केवल एक या दो होने से उनका लाड-प्यार अधिक होता है जिससे बच्चे अधिक जिद्दी और गुस्सैल बन गए हैं। उनकी कोई भी जिद या ख्वाइश जल्दी पूरी हो जाती है इसलिए बच्चों को ना सुनने की आदत नहीं होती जिस वजह से उनका यह जिदवाला व्यव्हार अधिक हो जाता हैं। 

आज इस लेख में हम आपके साथ Parentune द्वारा लिखा हुआ एक लेख साझा कर रहे है जिसमे एक माँ आपको बताने जा रही है की आप कैसे अपने बच्चों की गुस्से और जिद की आदत को सुधार सकते हैं। अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं। 
baccho-gussa-jid-hindi

बच्चों की गुस्से और ज़िद की आदत सुधारने के तरीके

मैं एक 8 साल के बच्चे की माँ हूँ। जब मेरा बेटा छोटा था तो बहुत गुस्सैल था और कुछ चीजों को लेकर बहुत जिद् करता था।

मैं और मेरे पति, दोनों के कामकाजी होने की वजह से यह हमारे लिये बड़ी चिंता की बात थी पर फिर हमने इस बारे में आपस में बात की और उसकी जिद् और गुस्से से निपटने के लिये कुछ उपाय किये जो मैं आपको बताना चाहती हूँ-
  1. इसके बाद वह जब भी गुस्सा होता था और मेरी तरफ इस उम्मीद से देखता था कि मुझे उसकी हरकत पर गुस्सा या मायूसी होगी (जो मैं अक्सर करती थी), मैंने एसा कुछ नहीं किया और माहौल बदलने के लिये कुछ पल तक शांति से उसकी ओर देखा। मेरे ऐसा करने पर वह उलझन में पड़ गया और मुस्कुराने लगा पर वह अभी भी गुस्से में था। इसके बाद मैंने जोर-जोर से हंसना शुरू कर दिया और मेरे इस बर्ताव पर वह खुद भी अपनी हंसी नहीं रोक पाया।
  2. बच्चों को उनकी मनचाही चीज के न मिलने पर ही वे जिद् करते हैं, तो उन्हे सब्र करना सिखाने के लिये आप भी उनके साथ वही खेल खेलें। जब मेरे बेटे ने बोलना शुरू किया, सबसे पहले उसने 1 से 3 तक गिनती सीखी। एक बार मैंने उसे दो पैन दिये और उसे 3 पैन वापस करने के लिये कहा। उसने दो बार गिना और यह कह कर वे पैन वापस कर दिये कि उसके पास दो ही पैन हैं। इस बात पर मैंने जिद् पकड़ ली कि मुझे तीन पैन ही चाहिये। अब उसकी समझ में ही नहीं आ रहा था कि वह क्या करे और फिर उसने धीरे से मुझे बताया कि वह तीसरा पैन नहीं दे सकता। यह हमारे पास उसे इस बात को समझाने का मौका था कि माता-पिता होने के नाते उसकी इच्छाओं को पूरा करने की हमारी एक सीमा है और हम उसे हर वो चीज नहीं दे सकते जो वह चाहता है पर उसे हर वो चीज मिलेगी जो उसके लिये जरूरी है।
  3. अपने बेटे के साथ मैंने माँ-बेटे का खेल खेलना शुरू किया जिसमें वह मेरी माँ बनता था और मैं उसका जिद्दी बेटा बनती थी। फिर धीरे-धीरे मैं खेल के बीच किसी बात पर जिद् करने लगती थी जो हमारे बीच एक आम बात थी और मेरे ऐसा करने से अब वह यह अच्छे से समझने लगा था कि कभी-कभी किसी मामले को हल करना कितना कठिन होता है। 
  4. मैंने और मेरे पति ने साथ मिलकर उससे अपने आॅफिस की समस्याओं के बारे बात करना शुरू किया जिससे वह हमारे रोजमर्रा हालातों को समझ सके और अपनी राय दे- कि कैसे किसी खास मसले को एक नये और अलग ढंग से हल किया जाये। 
  5. बजाय यह बताने के कि उसे क्या करना है, हमने उससे पूछना शुरू किया कि हम क्या नया और अलग कर सकते हैं, जिससे उसे अपनी अहमियत को महसूस करने में मदद मिली।
मुझे लगता है कि इन सुझावों की मदद से बच्चों में गुस्सा, जिद् और बात-बात पर आँसू बहाने की आदतों से बड़ी आसानी और कुशलता से छुटकारा पाया जा सकता है। मेरा मानना है कि आज के बच्चे ज्यादा जानकार हैं, वे दोस्ताना हैं और समझदार भी हैं। उनकी परवरिश भी हमारे बचपन के दिनों की तुलना में ज्यादा अच्छी है और माता-पिता होना एक ऐसा सफर है जो सभी के साथ एक परिवार बनाकर करना होता है जहाँ बच्चों का किरदार काफी अहम् होता है।

तो आपके माता-पिता होने के इस पवित्र और शानदार सफर के लिये बधाई। यह मौका जीवन में केवल एक बार मिलता है जहाँ आपके सीखने के लिये बहुत कुछ होता है और जो बच्चे की अच्छी परवरिश के लिये आपको तैयार करता है।

यह लेख हमारे साथ Parentune team ने साझा किया हैं। Parentune भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली पेरेंटिंग कम्युनिटी है जो पेरेंट्स को अपने बच्चों के लिए उपयुक्त सलाह और सहयोग देती हैं। और जाने Parentune के बारे में - http://www.parentune.com/ 
अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगती है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे !

0 comments:

Post a Comment

Share अवश्य करे !

जरूर पढ़े !