नॉनस्टिक कुकवेयर : फायदे और नुकसान

On,


रसोई घर के सब उपकरणों में आज के दौर में सबसे अधिक उपयोगी और महत्वपूर्ण उपकरण है नॉन स्टिक कुकवेयर और प्रेशर कुकर। आधुनिक दौर में इसका चलन काफी बढ़ गया है, लेकिन इनकी उचित देखभाल और उपयोगिता पर ध्यान देना आवश्यक होता है। 

तलना, भूनना और छोंक लगाना आदी कुछ ऐसे काम है जिन्हें किसी न किसी रूप में रोज करना पड़ता है। इसीलिए नॉन स्टिक कुकवेयर के इस्तेमाल को रोका नहीं जा सकता। नॉनस्टिक कुकवेयर का इस्तेमाल करते समय हमें इसके फायदे और नुकसान की जानकारी होना आवश्यक हैं। हमें यह भी जानना जरुरी है की इसके उपयोग का हमारा स्वास्थय पर क्या परिणाम होता हैं। 

नॉनस्टिक कुकवेयर के फायदे और नुकसान से जुडी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं : 

non-stick-cookware-ke-fayde-aur-nuksaan

नॉनस्टिक कुकवेयर के फायदे और नुकसान 

Benefits and side effects of Non Stick cookware in Hindi 

Non-stick Pan की विशेषता

Non-stick Pan में Teflon की विशिष्ट को coating परत होती है, जिसमे anti-stick property होती है। इस वजह से इस पर कुछ नहीं चिपकता और हम जितना भी तेल  इसमें डालते हैं वह पूरा इस्तेमाल हो जाता है और उसकी मात्रा भी बहुत कम लगती है। इसीलिए सेहत के दृष्टि से हमारा डाइट हल्का होता है। 

Non-stick cookware का इस्तेमाल करते समय ईन बातों का रखे विशेष ख़याल

  1. 400 डिग्री फ. से अधिक तापमान होने पर पैन की परत जल सकती है। खाना बनाते वक्त पलटने और उठाने के लिए तेज धार की कोई चीज का इस्तेमाल ना करें। बेहतर है कि लकड़ी की कलछि का प्रयोग करें, जो पैन के साथ मिलती है या अलग से भी ले सकते हैं। मामूली खरोच से पैन खराब नहीं होता लेकिन एक-एक करके कई खरोच इसकी उम्र घटाती है।
  2. Non-stick के बर्तनों में खाना पकाते समय उच्च तापमान के बजाए धीमे या मध्यम तापमान का ही प्रयोग करें। पैन को गैस पर सीधे गर्म ना करें उसमें पहले तेल या घी  डालें।
  3. Non-stick pan में कोई चीज कभी ना काटे इससे पैन को स्क्रैच आ सकता है।

कैसे करे Non-stick Pan की सफाई 

  • हर एक बार इस्तेमाल के बाद दिन में एकबार इसे हल्के गर्म साबुन वाले पानी से धो लें और स्पंज या मुलायम कपड़े से सुखा लें।
  • पाउडर या अन्य कोई डिटर्जेंट इस्तेमाल ना करें सिर्फ साबुन ही ठीक है।
  • एसिड और कॉस्टिक सोडा इसकी परत के लिए हानिकारक होता है।
  • Non-stick pan को खाना पकाने के बाद ठंडा होने के बाद ही धोए। गरम इसमें धोने पर उसकी कोटिंग निकल सकती है।
  • अगर कोई चीज जल गई है और उसके टुकड़े पैन में रह गए हैं तो इनमे फौरन प्लास्टिक या लकड़ी के चम्मच से साफ करें।
  • अगर इन से काम ना चले तो एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच ब्लीचिंग पाउडर आवश्यकतानुसार पानी में डालकर 10 मिनट तक रहने दें और फिर कपड़े से साफ कर लें। अगर एक बार में न छूटे तो इस क्रिया को दोहराए, यह साफ हो जाएगा।
  • इसे ऐसी जगह पर रखें जहां इसके गिरने का खतरा न हो। जगह बचाने के लिए बर्तनों के साथ मिलाकर न रखे। इससे भी इनमे खरोच आ सकती है।

Non-stick बर्तन के नुकसान 


  • Non-stick बर्तन के इस्तेमाल में फायदे के बजाय सेहत के लिए नुकसान अधिक होते हैं।
  • Non-stick बर्तन में तेल तो कम लगता है और इसकी सफाई भी आसान होती है पर लगातार कई समय तक इनका इस्तेमाल करने से शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर हो कई तरह की बीमारियां होने लगती है।
  • यह बर्तन हमारी तकलीफ बढ़ाने के साथ हमारे पर्यावरण को संतुलित रखने वाले पंछियों की जान को भी खतरा होते हैं।
  • इनमे जरूरत से ज्यादा गर्म करने पर करीब 700 डिग्री के ऊपर यह अगर गर्म होते हैं तो इनसे 5 से 6 प्रकार की हानिकारक गैसेस वातावरण में निकलते है जो पंछियों के लिए और इंसानों के लिए भी घातक होते है। पंछियों को इस वजह से टेफलोन टॉक्सिकोसिस और मनुष्य में पॉलीमर फ्यूम फीवर की आशंका बढ़ जाती है।
  • एक रिसर्च में यह पता चला है कि लगातार कई सालों तक नॉन स्टिक के बर्तनों में खाना खाए और शरीर में अगर टेफ्लॉन की मात्रा बढ़ जाए तो लीवर की समस्या हो सकती है।
  • इसमें एक ऐसा घटक पाया जाता है जिसे पीएफओए कहते हैं, यह शरीर में पहुंचने पर थायराइड का खतरा बढ़ जाता है, प्रजनन क्षमता में भी कमी आ सकती है।
  • लंबे समय तक शरीर में टेफ्लॉन जाने से पुरुष इनफर्टिलिटी की समस्या भी बढ़ती है।
  • Non-stick बर्तन में खाना पकाने पर शरीर में आयरन की कमी हो सकती है और हड्डियां भी कमजोर हो सकती है।
  • नॉन स्टिक बर्तनों में अधिक खाना पकाने पर शरीर में एसा तत्व रिलीज होता है जो कैंसर जैसी घातक बीमारी भी पैदा कर सकता है।
  • रिसर्च से पता चला है कि नॉन स्टिक कुकवेयर के अधिक इस्तेमाल  हृदय को घातक हो सकता है। इससे शरीर में ट्राइग्लिसराइड पहुंचता है जिससे हार्टअटैक आने का खतरा बढ़ता है।
  • नॉन स्टिक कुकवेयर के प्रयोग से अप्रत्यक्ष रूप से किडनी पर भी असर हो सकता है।
Non-stick Cookware से जुडी यह जानकारी पढ़ने के बाद बेहतर होगा कि आप खाना बनाते वक्त लोहे की कढ़ाई, तवा या स्टील या कांच के के बर्तनों का प्रयोग करें। 
अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे !

logo

No comments:

Post a Comment