शुगर (डायबिटीज) के मरीज के लिए आहार तालिका

On,


भारत में डायबिटीज के मरीजों की संख्या हर रोज बढ़ रही हैं। लगभग हर 5 भारतियों में से 2 भारतीय को डायबिटीज की समस्या हैं। डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के लिए जितना महत्त्व दवा और व्यायाम का है उतना ही महत्व आहार या डाइट का हैं। अगर डायबिटीज / शुगर के मरीजो को सबसे अधिक सवाल कोई सताता है तो यह सताता है की उनका आहार कैसा होना चाहिए।

ब्‍लड शुगर के मरीजों के लिए सबसे ज्‍यादा जरूरी है संतुलित और नियमित भोजन। योग्य डाइट चार्ट अपनाकर डायबिटीज के मरीज न सिर्फ अपनी शुगर नियंत्रण में रख सकते है बल्कि उनकी दवा और इन्सुलिन का डोज़ भी कम हो सकता हैं।

एक मधुमेह या डायबिटीज के रोगी का आदर्श डाइट चार्ट किस प्रकार होनी चाहिए इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :

diabetes-diet-chart-in-hindi

शुगर / डायबिटीज के मरीज के लिए आदर्श आहार तालिका

Sample Diet chart for Diabetes Patient in Hindi 

कैसा होना चाहिए डायबिटीज के रोगी का आहार ?

  • सुबह 6 बजे - एक ग्‍लास पानी में आधा चम्‍मच मेथी पावडर डालकर पीजिए।
  • सुबह 7 बजे - एक कप शुगर फ्री चाय, साथ में 1-2 मैरी बिस्किट ले सकते हैं।
  • नाश्ता / ब्रेकफास्‍ट - एक प्लेट उपमा या दलिया उसके साथ आधी कटोरी अंकुरित अनाज और एक गिलास बिना क्रीम वाला दूध।
  • सुबह 10 बजे के बाद - एक छोटा फल या फिर नींबू पानी।
  • दोपहर 1 बजे यानी लंच - मिक्‍स आटे की 2 रोटी, एक कटोरी चावल (रोजाना नहीं), एक कटोरी दाल, एक कटोरी दही, आधी कटोरी सोया या पनीर की सब्‍जी, आधी कटोरी हरी सब्‍जी और साथ में एक प्‍लेट सलाद।
  • शाम 4 बजे - बिना चीनी के एक कप चाय और बिना चीनी वाला बिस्किट या टोस्‍ट या 1 सेब।
  • शाम 6 बजे - एक कप सूप।
  • रात 8 बजे / डिनर - दो रोटियां, एक कटोरी चावल (ब्राउन राइस हफ्ते में 2 बार) और एक कटोरी दाल, आधी कटोरी हरी सब्‍जी और एक प्‍लेट सलाद।
  • रात में 10 बजे - सोने से पहले क्रीम रहित बिना चीनी के एक गिलास दूध पीजिए। ऐसा करने से अचानक रात में शुगर कम होने का खतरा नहीं होता। 
ब्‍लड शुगर के मरीजों को ब्रत करने से बचना चाहिए। इसके अलावा भोजन के बीच लंबा अंतराल भी नही करना चाहिए और रात के डिनर में हल्‍का भोजन करना चाहिए। इसके अलावा नियमित रूप से योगा और व्‍यायाम करने से भी ब्‍लड शुगर नियंत्रित रहता है। 

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगा कृपया इसे शेयर अवश्य करे !
Designed by Freepik

logo

No comments:

Post a Comment