प्रेरणात्मक लघु कथा - हाथी की रस्सी !

On,



दोस्तों, आज मैं आप सब से एक प्रेरणात्मक कथा शेयर करना चाहती हु जो मैंने कुछ दिन पहले newspaper में पढ़ी। इस कहानी ने मेरे दिल को छुआ, आशा करती हु की आप भी इसे पढ़कर अपनी जिंदगी में बदलाव लाने की कोशिश करेंगे। अगर आपकी कोई कोशिश अधूरी रह गई हो तो उसे फिर से पूरा करने का प्रयास करेंगे।

अधिक जानकारी के लिए आगे पढ़े :

प्रेरणात्मक लघु कथा - हाथी की रस्सी !

एक आदमी हाथियों के पास गुजरते हुए उन्हें देखकर अचानक रुक गया। वह इस बात से उलझन में था की इतने  विशाल और ताकतवर जीव को सिर्फ आगे के पैर में पतली रस्सी बांधकर कैसे रखा जा सकता है ! न कोई लोहे की चैन, न कोई पिंजरा। जब की उसे इस बन्धन से मुक्त होने में शायद एक सेकंद का भी वक्त न लगे और वे इसे एक झटके में तोड़कर आज़ाद हो जाए।


short-motivational-inspirational-story-in-hindi

वह आदमी सोचने लगा, ' इसका कारण कुछ तो जरूर होगा, जो वो ऐसा नही करते।'         

उसने वही हाथियों के महावत को खड़ा पाया और उससे पूछा, ' ऐसा क्यों है की ये जानवर यहाँ इतनी शांति से खड़े है और यहाँ से भागने या अपने को आजाद करने का प्रयास नही कर रहे है ?'    
           
तब महावत ने कहा, 'जब ये हाथी बहुत छोटे थे, उस समय भी हम इसी तरह की रस्सी का प्रयोग इन्हें बाँधे रखने के लिए करते थे। वे उस समय इससे छुटकारा पाने के लिए बहुत प्रयास करते लेकिन सफल नही हो पाते। उस वक्त इतनी बड़ी रस्सी इन्हें बांधे रखने के लिए काफी थी लेकिन वे जैसे-जैसे बड़े होने लगे, उनके दिमाग में यह बात बैठ गई की वे कितनी भी कोशिश कर ले, इस बन्धन को तोड़ नही सकते और यही मनोदशा बड़े होने पर भी उनमे बनी रही। इसलिए वे कभी इसे तोड़ने का प्रयास नही करते क्योंकि उन्हें अब भी यही लगता है की वे इससे छुटकारा नही पा सकते।     
        
महावत की यह बात सुनकर वह आदमी बहुत ही आश्चर्यचकित हुआ और मन ही मन सोचने लगा की ये जानवर इस बंधन से किसी भी वक्त छुटकारा पा सकते है लेकिन अपनी मनोधारना के वजह से वह ऐसा नहीं कर पाते। हम में से कितने ही लोग पूरी जिंदगी हाथियों की ही तरह यह सोचते हुए बिता देते हैं कि हम कुछ भी नहीं कर सकते और वह सिर्फ इसलिए क्योंकि हम अपने पहले के एक प्रयास में विफल हो गए होते हैं। 

पहली बार किसी काम में विफल होना स्वाभाविक है,  किसी काम में सफल ना होना सीखने की एक प्रक्रिया है हमें अपनी पहले की गलतियों से सीख कर आगे बढ़ना चाहिए। हाथी की तरह हार मान कर प्रयास ही नही करना  छोड़ देना चाहिए।           

आशा है आप सब को यह कहानी जरूर पसंद आई होगी। धन्यवाद। 

logo

No comments:

Post a Comment