सर्दी, खांसी और जुखाम का असरदार घरेलु आयुर्वेदिक उपाय !


हर वर्ष की तुलना में इस वर्ष ठण्ड ज्यादा है और इसीलिए सर्दी-खांसी और जुखाम से पीड़ित रोगियों की संख्या अधिक पायी जा रही हैं। सर्दी-खांसी जैसी स्वास्थ्य समस्या में एलोपैथी दवा देकर लाभ तो मिलता है पर यह लाभ क्षणिक ही होता हैं। इन समस्या से बचने के लिए आपको अपने रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ानेवाले आयुर्वेदिक उपाय का सहारा भी लेना चाहिए।

सर्दी-खांसी और जुखाम जैसे स्वास्थ्य समस्या से निजात पाने के लिए आप निचे दिए हुए घरेलु आयुर्वेदिक उपाय का उपयोग कर सकते हैं :

ayurveda-common-cold-cough-treatment-hindi

  • एक अच्छी दवाई खांसी, जुखाम, एलर्जी, सर्दी आदि के लिए जिसे आप घर पर बना सकते हैं। इसके लिए आपको चाहिए तुलसी के पत्ते, तना और बीज। तीनो का कुल वजन 50 ग्राम। इसके लिए आप तुलसी के ऊपर से तोड़ ले। इसमें बीज, तना और तुलसी के पत्ते तीनों आ जायेंगे। इसको एक बर्तन में डालकर 500 ml पानी डाल ले और इसमें अदरक 100 ग्राम और 20 ग्राम काली मिर्च दोनों को पीसकर डालें। अब इस मिश्रण को अच्छे से उबालकर काढ़ा तैयार करे। जब पानी 100 ml रह जाये तब तो इसे छान कर किसी कांच की बोतल में डाल कर रखे। आप इसमें स्वादानुसार शहद मिला सकते हैं। दिन में 3 बार दो चमच्च पिने से सर्दी, खांसी और जुखाम में लाभ मिलता हैं। 
  • जुखाम के लिए 2 चमच्च अजवायन को तवे पर हल्का भून कर एक रुमाल या कपडे में बाँध ले और पोटली बना दे। इसे सूंघने से जुखाम में लाभ मिलता हैं। 
  • खांसी के लिए रोग दिन में 3 बार हलके गर्म पानी में आधा चमच्च सैंधा नमक डाल कर गरारे करे। 
  • सुबह, दोपहर और रात को सोने से पहले एक चमच्च शहद में थोड़ी सी पीसी हुई काली मिर्च का पाउडर डालकर मिलाये और उसे चाटे। 
  • अगर खांसी ज्यादा आती है तो 2 साबुत कालीमिर्च और थोड़ी सी मिश्री मुंह में रखकर चूसे। ऐसा करने से आराम मिलता हैं। 
  • रात के समय दही नहीं खाना चाहिए। 
  • तुलसी, काली मिर्च और अदरक की चाय पिने से खांसी में जल्द आराम मिलता हैं। 
  • त्रिफला, मुलहठी और मिश्री को निम्बू के रस में मिलाकर लेने से खांसी कम करने में मदद मिलती हैं। 
  • पिप्पली, काली मिर्च, सौंठ और मुलहठी का चूर्ण बनाकर चौथाई चमच्च शहद के साथ लेना अच्छा रहता हैं। 
  • एक चमच्च सितोपलादि चूर्ण और एक चमच्च शहद मिलाकर सुबह शाम चाटने से सर्दी-खांसी और जुखाम में तुरंत लाभ मिलता हैं। 
  • सुबह-शाम एक कप दूध के साथ एक चमच्च गुडुची / गिलोय सत्व मिलाकर पिने से रोगप्रतिकार शक्ति में इजाफा होता हैं और बार-बार होनेवाली सर्दी-खांसी-जुखाम की समस्या से राहत मिलती हैं। 
  • सर्दी के दिनों में सुबह शाम एक चमच्च च्यवनप्राश खाने के बाद एक कप दूध पिने से रोग प्रतिकार शक्ति और बल में वृद्धि होती हैं। 
ऊपर दिए हुए आयुर्वेदिक नुस्खे कई लोग सदियों से अपनाते आ रहे है और सर्दी-खांसी और जुखाम जैसे कई रोगो से अपनी रक्षा करते आ रहे हैं। अगर आपको कोई समस्या है तो कृपया अपने डॉक्टर की सलाह लेकर ही इनका उपयोग करे।
Image courtesy of Mister GC at FreeDigitalPhotos.net
अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी है तो कृपया इसे share अवश्य करे !   

0 comments:

Post a Comment

Share अवश्य करे !

जरूर पढ़े !